इंटरव्ह्यू: प्रो कबड्डी मे दबंग दिल्ली को खिताब जीत कर देना है- विशाल माने

– अनिल भोईर

प्रो कबड्डी सीजन 7, 20 जुलाई से शुरू हो रहा है। नये सीजन के लिये सभी टीम जोर से तैयारी कर रहे है। सभी टीम विभिन्न स्थानों में शिविरों में शुरू हैं। दबंग दिल्ली के.सी. का हरियाणा के शुरू है। प्रो कबड्डी सीजन 7 मे दबंग दिल्ली के मुख्य डिफेडर विशाल माने से की खास बातचीत

प्रो कबड्डी सीजन 7 शूरु होने को केवल 1 महिना बाकी है, अपनी टीम के नए सीजन के लिए संतुलित है ?
– पिछले वर्ष की तुलना में टीम काफ़ी बदलाव आए, तब भी अनुभवी पुराने खिलाड़ियों बने हैं। नए खिलाड़ियों में विजय मलिक ऑलराउंडर है। और इराण के सईद घाफरी विश्व कप में खेल चुके हैं। अनिल कुमार के रूप में एक युवा खिलाड़ी है। अब हमारा शिविर हरियाणा में शुरू है। हमारी टीम अब पिछले सीजन की तुलना में अधिक संतुलित लग रही है।

पिछले सत्र दबंग दिल्ली ने पहली बार प्लेऑफ्स के लिए क्वालीफाई किया था, नए सीजन में वही प्रदर्शन को कैसे बरकरार रखेएंगे ?
– पिछले वर्ष की तुलना, बेशक हम अच्छी प्रदर्शन की कोशिश करेंगे। सभी मैचों जीत हसील करना हमारा लक्ष्य होगा। सभी खिलाड़ियों, कोच उसके लिए काम कर रहे हैं और कोच अच्छी तरह से हर किसी के लिए तैयारी कर रहे हैं।

प्रो कबड्डी सीजन 7 टाइमटेबल के लिए जारी हो गया है, आप नए फॉरमेट के बारे में क्या सोचते हैं?
– मुझे लगता है कि पिछले सीजन की तुलना में अब आसान प्रारूप है। इससे पहले होम लेग में पूरा हफ्ता खेलना था, अभी सिर्फ 4 हु मुकाबले खेलना है। उस वजहासे सभी की रेस्ट मिलेगी।

प्रो कबड्डी में सबसे ज्यादा मुकाबले खेलनेगा रिकॉर्ड आपके नाम है, इतना अनुभव आपके पास है तो वैसा परफॉर्मन्स हुवा है क्या?
– हालांकि मेरे ज्यादा मुकाबले खेलने का एक रिकॉर्ड है, मुझे अफसोस है कि मेरा नाम ज्यादा अंक के सूची मे होता तो अधिक अच्छा लागता। अपने चोट के कारण बीच कुछ सीजन में प्रदर्शन कम था। लेकिन मैं तो जीतने के लिए मैं मिलने के लिये खेलता हु, मैं अपने आंकड़ों की तुलना में टीम को जीत दिलनेगी कोशिश करता हु।

सीजन 7 कोनसे खिलाड़ियों आपके टीम के तुरुप का एक्का होंगे ?
– हमारे टीम से सभी खिलाड़ी योगदान देंगे। लेकिन हमारे पास भी एक जोकर है कि तुरुप का पत्ता निकल के आ सकता है, उसका नाम विजय मलिक है। उनका खेल बहुत बढ़िया है, क्योंकि नए है उसके कारण किसको उसका खेल पता नही। हमे विश्वास है कि पिछले साल की हमारी कमिया विजय मलिक पूरा करेंगे। युवा नवीन कुमार ने पिछले सीजन में बहतरीन प्रदर्शन किया है। वह अभी एक प्रमुख रेडर की भूमिका में खेलेंगे। और हमारे पास जोगिंदर और रविंदर की एक अनुभवी जोड़ी है।

कब से कबड्डी खेलेंना शुरुआत किया ?
– मैं कबड्डी बचपन से खेल रहा हु। मेरा जनम मुंबई के लालबाग में हुवा, मध्य मुंबई के लिऐ कबड्डी खेल बहुत पुराना है। डॉ शिरोडकर स्कूल से कबड्डी खेल रहा था, जबकि उसके बाद में महर्षि दयानंद कॉलेज, परेल, मे प्रवेश लिया। कबड्डी खेल से एमडी कॉलेज की पहचान बनाही है। एमडी कॉलेज से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों तयार हो गए है। शिव छत्रपति पुरस्कार प्राप्त राजेश पडावे सर का बहुमूल्य मार्गदर्शन मिला।

कैसे प्रोफेशनल कबड्डी खेलने की शुरुवात की ?
– प्रोफेशनल कबड्डी खेलने के लिए पहला अवसर देना बैंक ने दिया। युवा खिलड़ियों को ज्यादसे ज्यादा मौका देँगेगी देना बैंक कोशिश करती हैं। तब मैं एक अच्छा प्रदर्शन था। 19 साल की उम्र में ही मुझे सीनियर राष्ट्रीय प्रतियोगिता खेलनेको मिला । उसके बाद मैं महिंद्रा एंड महिंद्रा से 2 साल खेलने के लिए मिला। मेरे प्रदर्शन देखकर मुझे मध्य रेलवे खेलने के लिए अवसर दे दिया। सीनियर राष्ट्रीय प्रतियोगिता में रेलवे से खेलने के दौरान स्वर्ण पदक प्राप्त किया। तभी मनजीत चिल्लर, राकेश कुमार टीम के साथ खेल रहा था।

उस समय, मध्य रेलवे के खिलाफ भारत पेट्रोलियम बीच मैं बहुत सारे मुकाबले होथे थे। तभी मेरा लेफ्ट ओर राइट कव्हर दोंनों साईटन का प्रदर्शन बेहरतीन हो रहा था। तभी भारत पेट्रोलियम ने नौकरी ऑफर किया गया। मैं रेलवे क्लास 4 में था तभी भारत पेट्रोलियमने क्लास 3 जॉब की आफर दी। तभी से कबड्डी पूरा ध्यान केंद्रित किया था, प्रताप शेट्टी सर ने बहुत नई स्किल सिखाये।

आपका कबड्डी में क्या सपना है ? 
– वास्तव में, खिलाड़ियों के कभी सपने पूरे नहीं होथे। हालांकि, खिलाड़ी अधिक से अधिक चीजों प्राप्त इच्छा रखते है। मैं टीम को हर एक मुकाबले मैं 100 प्रतिशत दे के जीत दिलनेगी कोशिश करता हु। अब मेरा फोकस दबंग प्रो कबड्डी दिल्ली टीम को चैंपियन बनाने की कोशिश करूँगा।

शिविर में टीम फिटनेस के लिए क्या हो रहा है ? 
– फिटनेस बहुत अच्छी शुरु है, हमारे फिटिन कोच संदीप रांगणेकर ने मेरा फिटनेस नीलामी के बाद तुरुंत अंधेरी मुंबई मे शुरू दिया। सुबह शिविर मे 6 बजे फिटनेस आयोजित किया जाता है । शाम को कोचकृष्ण कुमार हूडा कोचिंग करते है। पिछले साल क्या-क्या गलती हुवी उस पर मार्गदर्शन दिया जा था है। हमारे फिजियो रसेल पिंटो सर हम सत्र से पहिले कितने और बाद मे कितने थके है ये देखते है। उसके हमारी अगली सत्र मे कार्यक्रम के लिए तैयार करते है। हर खिलाडी के क्षमताओं के रूप में ज्यादा ध्यान देते हैं, इसलिए हर खिलाड़ी को रेस्ट मिलती है। जों की कबड्डी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

प्रो कबड्डी मे विशाल माने का प्रदर्शन:
मुकाबले- 105
अंक- 170
सुपर टॅकल- 9
हायफाय- 8

Leave A Reply

Your email address will not be published.